रविवार, 10 अप्रैल 2011

दर्द जुदाई का हम किस से कहे 'अमित'

दर्द जुदाई का हम किस से कहे 'अमित'
होकर भी जुदा मुझसे वो अलग नहीं होता

***** ***** ***** ***** ***** ***** ****** *****

dard is judaayi ka ham kisse kahe 'Amit'
hokar bhi zudaa mujhse wo alag nahi hota

***** ***** ***** ***** ***** ***** ****** *****

agony of this separation, how can be described 'Amit'
despite departure, one is unable to be severed

3 टिप्‍पणियां:

  1. अमित ,आपने फिर एक बार बहुत खूबसूरत बात कह दी .......शेर में...........मेरी और से भी एक शेर ......
    तुझसे बिछड़ कर यही माँगा है खुदा से
    तू दूर भले हो कभी जुदा न होगा मुझसे ....

    उत्तर देंहटाएं